OPD full form in Hindi | OPD kya hai?

OPD full form,OPD full form in Hindi,OPD kya hai,OPD meaning in Hindi,OPD ka full form

OPD full form

आज के समय में लगातार बीमारियां बढ़ रही है जिसके चपेट में छोटे से लेकर बड़े व्यक्ति सभी आ रहे तो उसके लिए उन्हें अस्पताल जाने पड़ते है पर उन्हें यह पता नहीं होता है अस्पताल में जा कर क्या करना है और किस चिकित्सक से मिलना है तो आज के पोस्ट के माधयम से हम आपको बताएँगे ओपीडी क्या होता है और ओपीडी के बारे में जानना हमारे लिए क्यों इतना जरुरी हो जाता है !

OPD full form :-

opd का फुल फॉर्म Outpatient Department होता है !

OPD क्या होता है ?

ओपीडी का फुल फॉर्म आउट पेशेंट डिपार्टमेंट है। एक चिकित्सा विभाग में रोगी और चिकित्सा पेशेवरों के बीच संचार का प्राथमिक बिंदु होने के लिए एक ओपीडी को संरचित किया जाता है। एक मरीज जो पहले अस्पताल पहुंचता है वह सीधे ओपीडी में जाता है, और फिर ओपीडी तय करती है कि मरीज किस यूनिट में जाएगा।

एक ओपीडी आमतौर पर प्रत्येक अस्पताल के भूतल पर स्थित होता है और कई भागों में विभाजित होता है जैसे कि न्यूरोलॉजी विभाग, स्त्री रोग विभाग, हड्डी रोग विभाग, ऑन्कोलॉजी विभाग, सामान्य चिकित्सा विभाग । मरीज यहां पर सारी कागजी कार्रवाई खत्म कर संबंधित विभाग में जाता है।

 

Outpatient and Inpatient difference in hindi- आउट पेशेंट और इनपेशेंट के बीच अंतर

एक इनपेशेंट और एक आउट पेशेंट उपचार के बीच का अंतर यह है कि एक मरीज को अस्पताल में कितने समय तक रहने की आवश्यकता होती है, जहां ऑपरेशन किया जाता है।

Outpatient

एक आउट पेशेंट वह व्यक्ति होता है जो 24 घंटे या उससे अधिक समय तक अस्पताल में भर्ती नहीं रहता है, लेकिन क्लिनिक या अस्पताल में देखभाल या उपचार के लिए उपस्थित होता है।

Inpatient

एक व्यक्ति जो कई दिनों या हफ्तों के लिए रात भर अस्पताल में भर्ती रहता है, एक इनपेशेंट होता है जिसे एक इनपेशेंट के रूप में जाना जाता है।

 

Advantages of OPD in Hindi – ओपीडी के लाभ

ओपीडी बुनियादी देखभाल है जिसका इलाज किया जाना आवश्यक है। ग्राहकों को केवल क्लिनिक का दौरा करने की आवश्यकता होती है और डॉक्टर इलाज के लिए राशि का भुगतान करने के बाद निदान करते हैं। यह एक ऐसा वार्ड है जहां डॉक्टरों द्वारा रोगियों का निदान और उपचार किया जाता है।

ओपीडी का लाभ यह है कि:

  • चिकित्सकीय इलाज कराने की दिशा में यह पहला कदम है
  • यह अधिक उचित उपचार और रोकथाम के लिए एक कदम है
  • यह स्क्रीनिंग और जांच प्रदान करता है
  • कोई भी आसानी से संसाधनों और सूचनाओं तक पहुंच सकता है
  • बीमारी से बचाव के लिए यह एक महत्वपूर्ण कदम है

ओपीडी कम खर्चीली है और यह रोगी के लिए आवश्यक देखभाल प्रदान करती है। यह चिकित्सा क्षेत्र में एक अत्यधिक प्रशंसित कदम है क्योंकि ओपीडी के बिना मरीज अपनी चिकित्सा स्थिति को नहीं समझ पाएंगे। ओपीडी में नियमित रूप से आने से मरीजों को विभिन्न बीमारियों के बारे में जानकारी मिल सकती है और बीमारी से भी बचा जा सकता है। प्रशासन द्वारा बहुत अधिक मार्गदर्शन और नियंत्रण होता है इसलिए इसे आसानी से नियंत्रित किया जाता है और सर्वोत्तम सेवा प्रदान की जाती है।

 

ओपीडी को कवर करने वाले स्वास्थ्य बीमा हैं:

ओपीडी कवरेज के साथ स्वास्थ्य बीमा योजनाएं:

  • ICICI Lombard – Health Protect Plus, Health Smart, Health Smart Plus
  • Apollo Munich Maxima
  • Bajaj Allianz Tax Gain Plan
  • Niva Bupa Heartbeat

 

ओपीडी क्या उपचार देती है ?

ओपीडी में आपको अस्पताल के सभी विभागों के डॉक्टर मिल जाएंगे। यहां डॉक्टर आपका निदान करेंगे और जरूरत पड़ने पर आपको संबंधित विभागों के पास भेजेंगे। जरूरत पड़ने पर वे आपको प्रवेश के लिए भी भेज सकते हैं।

 

किन अस्पतालों में ओपीडी होती है?

अस्पताल और नर्सिंग होम जैसी सभी चिकित्सा सुविधाओं में ओपीडी की सुविधा होती है। सरकारी और निजी दोनों सुविधाएं ओपीडी सुविधा से लैस होती हैं।

 

Also Read:-

HIV full form | HIV kya hai? 

PCOD kya hai – पीसीओडी क्या है? | Explain in hindi

Conclusion :-

आज के पोस्ट में हमने ओपीडी के बारे में बात किया है ओपीडी मतलब यह होता है जब कोई रोगी अस्पताल जाता है तो वह सबसे पहले ओपीडी जाता है वहां अपनी परेशानिया बताता है अपने रोग के अनुसार वह उस ओपीडी में जाता है हर रोग के लिए अलग अलग ओपीडी विभाग होती है जैसे न्यूरोलॉजी विभाग, स्त्री रोग विभाग, हड्डी रोग विभाग, ऑन्कोलॉजी विभाग इत्यादि !

Leave a Comment