BPO full form in Hindi | BPO kya hai?

BPO full form, BPO in Hindi, BPO kya hai, BPO ka full form, BPO in Hindi meaning,BPO ka Matlab

bpo full form

BPO full form

BPO का फुल फॉर्म Business Process Outsourcing है !

BPO क्या है ?

यह सेवाओं या व्यावसायिक प्रक्रियाओं के एक बाहरी प्रदाता के लिए एक कंपनी का अनुबंध है। यह एक लागत-बचत उपाय है जो कंपनियों को गैर-मुख्य कार्यों को आउटसोर्स करने की अनुमति देता है

इसमें लेखांकन, डेटा प्रविष्टि और मानव संसाधन जैसे विनिर्माण या बैक-ऑफ़िस कार्य शामिल हो सकते हैं। इसमें ग्राहक सेवा और तकनीकी सहायता जैसी फ्रंट-एंड सेवाएं भी शामिल हैं। इस प्रकार, बीपीओ सेवाओं को बैक ऑफिस आउटसोर्सिंग और फ्रंट ऑफिस आउटसोर्सिंग में विभाजित किया जा सकता है।

Types of BPO

तीन प्रकार के बीपीओ विकल्प हैं जो नीचे दिए गए हैं:

Onshore Outsourcing: इसे घरेलू आउटसोर्सिंग के रूप में भी जाना जाता है। यह उसी देश के भीतर किसी से बीपीओ सेवाएं प्राप्त करने को संदर्भित करता है।

Nearshore Outsourcing: यह पड़ोसी देशों में किसी से बीपीओ सेवाएं प्राप्त करने को संदर्भित करता है।

Offshore Outsourcing: यह पड़ोसी देशों को छोड़कर किसी अन्य देश में बाहरी संगठन से बीपीओ सेवाएं प्राप्त करने को संदर्भित करता है।

 

आउटसोर्सिंग की आवश्यकता

प्रमुख और सबसे महत्वपूर्ण कारण जिसके लिए आउटसोर्सिंग लागू की गई है, एक महत्वपूर्ण और बड़े पैमाने पर लागत में कमी है। यह उन कार्यों की लागत को कम करता है जिनकी कंपनी को आवश्यकता होती है।

आइए देखें बीपीओ लाभों की सूची:

  • मुख्य व्यवसाय पर ध्यान दें
  • कम ओवरहेड
  • बाहरी विशेषज्ञता
  • कुशल और लागत घटाने
  • आय आदि में वृद्धि।

बीपीओ और कॉल सेंटर के बीच अंतर

बीपीओ एक ऐसा संगठन है जो किसी अन्य व्यावसायिक संगठन की प्रक्रिया को निष्पादित करने के लिए जिम्मेदार होता है। इसका उपयोग लागत बचाने या उत्पादकता हासिल करने के लिए किया जाता है। दूसरी ओर, कॉल सेंटर ग्राहक के व्यवसाय का एक हिस्सा है। इसमें टेलीफोन कॉल्स को हैंडल करना शामिल है। इसका उपयोग टेलीफोन कॉल पर ग्राहक की शिकायतों और अनुरोधों को हल करने के लिए किया जाता है।

नोट: कॉल सेंटर को बीपीओ माना जा सकता है, लेकिन बीपीओ कॉल सेंटर नहीं है।

बीपीओ जॉब के लिए आवश्यक शिक्षा और कौशल

बहुत सारे लोगों में ऐसी भ्रांति होती है कि कोई भी व्यक्ति बीपीओ सेक्टर की नौकरी से जुड़ सकता है।

जबकि सच्चाई यह है कि आपको अलग-अलग बीपीओ प्रोफाइल के लिए अलग-अलग स्किल्स की जरूरत होती है।

बीपीओ जॉब्स के लिए न्यूनतम योग्यता-

बैक ऑफिस के लिए- विशिष्ट क्षेत्र में न्यूनतम स्नातक

फ्रंट ऑफिस के लिए- किसी भी स्ट्रीम से न्यूनतम 12वीं या इंटरमीडिएट

 

बीपीओ नौकरियों के लिए आवश्यक बुनियादी कौशल-

  • संचार कौशल- लिखित और बोली जाने वाली
  • मदद करने की इच्छा
  • अनुशासन- किसी भी पाली में काम करना होगा

अगर आपके अंदर यह सारे गुण है तो आप बीपीओ के लिए अप्लाई कर सकते है 

 

बिजनेस प्रोसेस आउटसोर्स के लाभ

बिजनेस प्रोसेस आउटसोर्सिंग कंपनी और बीपीओ कंपनी दोनों के लिए बहुत फायदेमंद है।

 कुछ प्रमुख लाभ इस प्रकार हैं-

  • बीपीओ एक कंपनी को अपनी मूल ताकत पर काम करने का मौका देता है।
  • बीपीओ एक कंपनी के खर्च को कम करने में मदद करता है।
  • बीपीओ कंपनी को उत्पादकता बढ़ाने का मौका देता है।
  • बीपीओ एक कंपनी की भर्ती और प्रशिक्षण पर खर्च बचाता है।
  • बीपीओ 24*7 सेवा प्रदान कर सकता है जो ग्राहक सेवा से संबंधित संचालन के लिए आवश्यक है।

 

कुछ अन्य बीपीओ के फुल फॉर्म

In Business

BPO:-Business Sources Outsourcing

In Banking

BPO:- Bankers Pay Order

In Stock Market

BPO:- Broker Price Opinion

Also read:-

Founder and Co-founder में क्या अंतर है ?

Businessman Vs Entrepreneur Meaning in Hindi

Conclusion:-

बीपीओ मतलब बिज़नेस प्रोसेस आउटसोर्सिंग जैसे की इसके नाम से ही पता चल रहा किसी बिज़नेस को आउटसोर्स कर देना!

चलिए हम आपको एक उदहारण से समझाते है,

मान लीजिये आपका कोई बिज़नेस है और वह बिज़नेस काफी बड़ा हो गया जिसके कारन आप अपने बिज़नेस को अच्छे से चला नहीं पा रहे जिसके कारन आपको अपनी कंपनी चलाने में परेशानी हो रही तब आप इस क्या करेंगे?

तभी काम आता है एक बीपीओ का जो आपके बिज़नेस को आगे बढ़ाने में आपकी मदद करेगी जसिके कारन आप अपने बिज़नेस को अच्छे से चला पाएंगे आप बीपीओ के जरिये अपने कंपनी के बहुत से काम करवा सकते है है जैसे की कॉल्स को हैंडल करना,कस्टमर्स से रिव्यु लेना,कस्टमर की परेशानियों को दूर करना इत्यादि जैसे कामो के लिए आप अपनी कंपनी को बीपीओ के हवाले सौप सकते है !

 

उम्मीद करता हूँ यह पोस्ट आपको पसंद आया हो अगर आपके मन में क्कुह सवाल रह गया हो  बीपीओ से जुड़ी तो आप कमेंट कर पूछ सकते है !

Leave a Comment